बुधिजीवी और सब असफल – आम चुनाव २०१९
आम चुनाव २०१९ अब अपने अंतिम दौर में आ गया है | १९ मई को अंतिम दौर का चुनाव होना है | बुधिजीबियों ने चुनाव आयोग की अधिसूचना आने से बहुत पहले हीं चुनाव के किये वैचारिक मुद्दे तैयार करने प्रारम्भ कर दिये थे | पहली समस्या जो जनता के सामने आई वो था “असहिष्णुता” |

blog.hindi.india71.com

आम चुनाव २०१९ अब अपने अंतिम दौर में आ गया है | १९ मई को अंतिम दौर का चुनाव होना है |  बुधिजीबियों ने चुनाव आयोग की अधिसूचना आने से बहुत पहले हीं चुनाव के किये वैचारिक मुद्दे तैयार करने प्रारम्भ कर दिये थे | पहली समस्या जो जनता के सामने आई वो था “असहिष्णुता” | पूरे देश में इस पर काफी हाय तौवा मच गया | बड़े बड़े विद्वान, लेखक, कलाकार, एवं हस्तियों में से कुछ लोग जनता के बीच बढ़ती असहिष्णुता से बहुत क्रुद्ध हो गये | विरोध स्वरुप उन्होंने अपने अपने राष्ट्रीय सम्मानों को, जो उन्हें अपने अपने क्षेत्रों में किये गये विशिष्ट उपलव्धियों के लिये भारत के राष्ट्रपति द्वारा अलंकृत समारोह में प्राप्त हुआ था, वापस करना शुरू कर दिये | जबकि वास्तविकता का दूर दूर तक इससे कोई रिश्ता नहीं था | धीरे धीरे यह मुद्दा स्वतः समाप्त हो गया | किसी के द्वारा अपने पुरस्कार वापसी की जानकारी नहीं मिली | दूसरा प्रकरण उठ गया “मोब लिंचिंग” का | इस विषय को धर्मनिष्पक्षता पर गहरी चोट बता कर पूरे देश में बवाल मच गया | सत्तारूढ़ दल को शक के दायरे में ला दिया गया और उस पर संविधान संशोधन करने  की  साजिश का आरोप लगाकर हर फ्रंट पर बहस छिड़ गई | लेकिन यह प्रकरण भी स्वतः समाप्त हो गया | देश के प्रतिष्ठित शिक्षा संस्थानजवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की एक घटना ने तो देश की रक्षा सुरक्षा एवं संविधान की मर्यादा को तार तार कर दिया | विश्वविद्यालय छात्रों के एक समूह ने अपने एक कार्यक्रम के दौरान “भारत तेरे टुकड़े होंगे, इंशाअल्लाह टुकडे होंगे टुकड़े होंगे , क्या चाहिये – आजादी आजादी , के साथ पाकिस्तान जिंदाबाद” का नारा देकर देश को सकते में ला कर खड़ा कर दिया | सत्तारूढ़ दल के लोगों ने इस का विरोध किया | विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जब उन छात्रों पर कारवाई शुरू हुई तो मुख्य विपक्षी दल के साथ अन्य विपक्षी दलों ने भी छात्रों के बचाव में उतर आये | सरकार से लेकर विश्वविद्यालय प्रशासन को ही दोषी ठहराने लगे | सत्तारूढ़ दल पर अभिव्यक्ति की आजादी पर अंकुश लगाने का साजिश मढ़ दिया | पूरा मामला न्यायालय में है |

पढ़िए पूरी कहानी बुधिजीवी और सब असफल – आम चुनाव २०१९

YOUR REACTION?

Facebook Conversations