कुलभूषण जाधव की घर वापसी
कुलभूषण जाधव के मामले में अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत (अ. न्या. अ) का फैसला पाकिस्तान की रीढ़ की हड्डी में कील ठोक देने वाला सावित हुआ है | अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसले ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय नीति का पर्दाफास कर दिया है | दुनियाँ के सामने वह मुँह दिखाने लायक नहीं रहा |

blog.hindi.india71.com

कुलभूषण जाधव के मामले में अंतर्राष्ट्रीय न्याय अदालत (अ. न्या. अ)  का फैसला पाकिस्तान की रीढ़ की हड्डी में कील ठोक देने वाला सावित हुआ है | अंतर्राष्ट्रीय अदालत के फैसले ने पाकिस्तान के राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय नीति का पर्दाफास कर दिया है | दुनियाँ के सामने वह मुँह दिखाने लायक नहीं रहा |

कुलभूषण जाधव भारतीय नौ सेना का एक अवकाश प्राप्त अधिकारी था और ईरान के चाबहार बंदरगाह पर अपने ब्यापार में लगा था | अवकाश ग्रहण के बाद भारत सरकार के साथ वो जुड़ा नहीं था | पाकिस्तान - ईरान की सीमा से पाकिस्तानियों ने उसे अपहरण कर लिया और भारत के लिये पाकिस्तान में खुफिया एजेंट एवं आतंकवाद पर काम करने के झूठे आरोप में फंसाकर उस पर सैन्य अदालत में मुक़दमा चलाया जहाँ उसे अप्रैल २०१७ में फांसी की सजा दी गई | पाकिस्तान ने जाधव के अपहरण / पकड़ने की कोई जानकारी भारत को देना उचित नहीं समझा | पाकिस्तानी समाचार माध्यम से मिली जानकारी के बाद जब ये भारतीय समाचारों में आया तब भारत सरकार ने पाकिस्तानी राजदूत को बुलाया और अपना विरोध प्रकट किया | बिना सूचित किये जाधव को कोर्ट मार्सल किये जाने एवं फांसी की सजा सुनाये जाने को भारत ने वियना कंवेंसन का उल्लंघन करार देकर जाधव को झूठे आरोपों से मुक्त कर वापस करने का दवाब पाकिस्तान पर डाला | परन्तु पाकिस्तान ने यह कह कर अनसुनी कर दी कि जासूसी एवं आतंकवाद फ़ैलाने वालों को सजा मिलनी हीं चाहिए |

पढ़िए पूरी कहानी कुलभूषण जाधव की घर वापसी ?

YOUR REACTION?

Facebook Conversations