अपराधी कौन धर्म या इन्सान
कदाचित य़ह सोच सही नहीं है कि हम किसी भी धर्म में भेदभाव करें। लेकिन जब अपने चारों तरफ के हालात पर नजर डालते हैं तो मन मजबूर हो जाता है य़ह मानने को की धर्म इन्सान के सोच अथवा कर्म का आइना है।

blog.hindi.india71.com

पढ़िए पूरी कहानीकदाचित य़ह सोच सही नहीं है कि हम किसी भी धर्म में भेदभाव करें। लेकिन जब अपने चारों तरफ के हालात पर नजर डालते हैं तो मन मजबूर हो जाता है य़ह मानने को की धर्म इन्सान के सोच अथवा कर्म का आइना है। 

आजकल अक्सर यह देखने को मिलता है कि अगर कहीं कोई अपराध हुआ तो वह अपराध करने वाला व्यक्ति कौन है, हिन्दू अथवा मुस्लिम? हमारी सोच अक्सर धर्म पर ही क्युं स्थिर है? अपराध यदि हिन्दू के साथ हुआ है तो यकीनन अपराधी मुस्लिम है। वहीं पीड़ित व्यक्ति मुस्लिम है तो अपराधी हिन्दू है। उसके बाद शुरु हो जाता है - प्रदर्शन, आंदोलन, आगजनी, खून खराबा। 

कुछ समय पहले एक मैसेज पढ़ा जिसमें लिखा था कि "हर मुस्लिम आतंकवादी नहीं होता लेकिन हर आतंकवादी मुस्लिम ही होते हैं।" यह बात भी सही है कि हिन्दू से अधिक मुस्लिम अपराधिक मानसिकता वाले होते हैं। अक्सर हमने देखा है कि उनकी सोच ही क्रूरता भरी होती है। वे हमेशा सामने वाले का दमन करना चाहते हैं। उन पर शासन करना चाहते हैं, उनको दबाना अपनी बात हमेशा ऊपर रखना। छोटी छोटी बातों पर कलह करना, औरतों के मामले में तो अत्यन्त ही कठोर प्रवृति के होते हैं छोटी छोटी बातों पर तलाक देना, एक के होते हुए दूसरी फिर तीसरी कई बार चौथी पांचवी निकाह करते रहना। औरतों को अपने मनोरंजन का साधन समझ कर उन पर यातनाएं करना। छोटी उम्र में निकाह कर देना, औरतों को हमेशा पर्दे में रखना। उनके यहां तो मौलवी भी औरतों को शोषित तथा प्रताड़ित किया करते हैं हलाला के नाम पर। कभी तलाक कभी हलाला कभी बुरखा इन्हीं सब में औरतों को उलझाए रखते हैं। आगे बढने का मौका ही नहीं देते। अगर भुले बिसरे कभी कोई इसके खिलाफ आवाज उठाता भी है तो पुरी मुस्लिम समुदाय उसके विपरित खरी हो जाती है, औरतों के हक़ को दबाने के लिए।

पढ़िए पूरी कहानी अपराधी कौन धर्म या इन्सान

YOUR REACTION?

Facebook Conversations