अपराधिक मानसिकता !
एक अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र में छपे एक समाचार के शीर्षक ने मुझे इस तरह आकर्षित किया कि न चाहते हुये भी उसे पढ़ने को हम मजबूर हो गये | १२ जुलाई १९ के टाइम्स ऑफ़ इंडिया के एक समाचार का शीर्षक था “missing prison food, man steals bike to return to jail “ | एक आदमी चोरी के आरोप में जमानत पर जेल से बाहर था और उसने एक बाईक चोरी कर अपने आप को पुलिस की पकड़ में आने के लिए अपने चेहरे को सीसीटीवी के कैमरे में दर्ज किया |

blog.hindi.india71.com

एक अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्र में छपे एक समाचार के शीर्षक ने मुझे इस तरह आकर्षित किया कि न चाहते हुये भी उसे पढ़ने को हम मजबूर हो गये | १२ जुलाई १९ के टाइम्स ऑफ़ इंडिया के एक समाचार का शीर्षक था “missing prison food, man steals bike to return to jail “ | एक आदमी चोरी के आरोप में जमानत पर जेल से बाहर था और उसने एक बाईक चोरी कर अपने आप को पुलिस की पकड़ में आने के लिए अपने चेहरे को सीसीटीवी के कैमरे में दर्ज किया | पुलिस ने उसे पकड़ लिया | पूछताछ के सिलसिले में उसने बताया कि घर में कोई उस पर ध्यान नहीं रखता है | जेल में उसे समय पर नास्ता  दिन एवं रात का खाना मिल जाता है | यहाँ उसे आलसी कह कर कोसने वाला कोई नहीं है | उसके कई हमदर्द भी हैं | अनूठे आनंद के लिये पुलिस ने उसे जेल में बंद कर दिया |

पढ़िए पूरी कहानी अपराधिक मानसिकता !

YOUR REACTION?

Facebook Conversations